Friday, August 25, 2017

रात्रि में ही

रात्रि में ही अगले दिन की व्यवस्था करके सोएं ताकि आज की प्रभात मधुर और शांत बने।

परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home